Home स्पोर्ट नितिन मेनन ने बताया, भारत-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज में अंपायरिंग करना क्यों था...

नितिन मेनन ने बताया, भारत-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज में अंपायरिंग करना क्यों था चैलेंजिंग


 इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) की अंपायरों की ‘एलीट पैनल में शामिल होने के बाद पहली सीरीज में शानदार अंपायरिंग करने वाले नितिन मेनन ने कहा कि दबाव में उनका प्रदर्शन और सुधर जाता है तथा वह इस बेहतरीन समय (लय) को जारी रखना चाहेंगे।  इस 37 साल के अंपायर को पिछले साल जून में कोविड-19 महामारी के दौरान आईसीसी की एलीट पैनल के अंपायरों में शामिल किया गया था लेकिन उन्हें पहली बार मैदान पर उतरने का मौका फरवरी में मिला। 
    
महामारी के कारण आईसीसी को बाइलेटरल सीरीज में स्थानीय अंपायरों को नियुक्त करने के लिए मजबूर होना पड़ा। मेनन ने भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गये चार टेस्ट मैच, पांच टी20 मुकाबले और तीन वने मैचों में अंपायर की भूमिका निभाई। सीरीज के दौरान सही फैसले के लिए उनकी काफी तारीफ हुई। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) से पहले चेन्नई में क्वारंटाइन कर रहे मेनन ने पीटीआई-भाषा से बातचीत पिछले दो महीने की चुनौतीपूर्ण समय को दिलचस्पी के साथ याद किया।

बाबर आजम ने जड़ा जोरदार शतक, विराट कोहली-हाशिम अमला जैसे दिग्गज रह गए पीछे
    
उन्होंने कहा, ” पिछले दो महीने बहुत अच्छे रहे हैं। यह शानदार संतुष्टि देता है जब लोग आपके अच्छे काम को देखते हैं और उसकी सराहना करते हैं। इसमें अंपायरिंग करना चुनौतीपूर्ण था क्योंकि वर्ल्ड कप चैंपियनशिप  के फाइनल में जगह बनाने के लिए दोनों टीमें संघर्ष कर रही थी और विदेशों में प्रभावशाली जीत के साथ यहां पहुंची थी। ऐसी पिचों भी काफी चुनौतीपूर्ण थी। एस वेंकटराघवन और एस रवि के बाद आईसीसी एलीट पैनल में जगह बनाने वाले तीसरे भारतीय बनें मेनन ने कहा, ” यह सीरीजदुनिया की दो शीर्ष रैंकिंग वाली टीमों के बीच था। इन सभी कारकों को ध्यान में रखते हुए, मुझे खुशी है कि हमने अंपायरिंग टीम के रूप में अच्छा प्रदर्शन किया।

कोहली ने इंग्लैंड के इस खिलाड़ी को पहले टेस्ट में दी थी ये वॉर्निंग

सीमित ओवरों कीसीरीजमें मेनन के फैसले के खिलाफ 40 बार रेफरल (तीसरी अंपायर की मदद मांगी गयी) का इस्तेमाल किया गया लेकिन सिर्फ पांच बार उनके फैसले को बदला गया। लगातार बड़े मैचों में अंपायरिग करने वाले मेनन ने कहा कि यह मानसिक मजबूती के बारे में है। उन्होंने कहा, ” भारत में आयोजित घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंटों के कारण मेरे लिए लगातार मैचों में भाग लेना कोई नयी बात नहीं है। हम रणजी ट्रॉफी (चार दिवसीय प्रथम श्रेणी मुकाबले) में औसतन आठ मैचों में अंपायरिंग करते है। इसमें एक स्थान से दूसरे स्थान के बीच यात्रा भी होती है। मेरा मानना है कि अंपायरिंग मानसिक मजबूती के बारे में है। जब दबाव ज्यादा होगा तो ध्यान भी ज्यादा देना होगा।

पीटरसन ने आईपीएल को लेकर क्रिकेट बोर्डों को दी ये नसीहत

लगातार दो महीने तक अंपायरिंग करने के बाद मेननको घर में सिर्फ दो दिन बिताने का मौका मिला। आईपीएल के लिए उन्होंने एक और जैव-सुरक्षित (बायो-बबल) माहौल में आना पड़ा। उन्होंने कहा कि बायो बबल में रहना काफी चुनौतीपूर्ण है। उन्होंने कहा, ” यह काफी चुनौतीपूर्ण है। जिस दिन मैच नहीं होता है , उस दिन स्थिति और मुश्किल होती है क्योंकि हम होटल से बाहर नहीं जा सकते। बबल में हम परिवार की तरह रहते है और एक दूसरे का ख्याल रखते है।



Source link

21b5d3afce3415c64532162a361d26a6?s=117&d=mm&r=g
Rohit Sharmahttps://newsreader.xyz/
मेरा काम आपको सबसे तेज और सही न्यूज़ देना!

Leave a Reply

प्रसिद्ध न्यूज़

एंटीलिया बम केस: NIA ले रही है मुंबई में होटल की ली तलाशी

उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर मिली विस्फोटक वाली कार और कारोबारी मनसुख हिरेन हत्याकांड की जांच कर रही एनआईए ने गुरुवार...

राजस्थान में भी कोरोना ने पकड़ी रफ्तार, सरकार ने राज्य में आने और जाने वालों के लिए RT-PCR टेस्ट किया अनिवार्य

कोरोना वायरस के नए मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए राजस्थान सरकार ने रविवार को पाबंदियों को और सख्त कर दिया है। सरकार...

जापान के पीएम योशिहिदे सुगा करेंगे भारत दौरा, हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की हेकड़ी होगी कम?

जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा अप्रैल के आखिर या मई में भारत आ सकते हैं। हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की लगातार बढ़ती आक्रामकता...

40% तक सस्ते में स्मार्टफोन खरीदने का मौका, Amazon पर शुरू हुई मोबाइल सेल

ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट अमेजन इंडिया (Amazon India) ने स्मार्टफोन अपग्रेड डेज़ (Smartphone Upgrade Days) सेल का आयोजन किया है। 5 दिन की...

हाल ही की टिप्पणियाँ